शैक्षिक कार्य से बनी है महाविद्यालय की पूरे भारत में पहचान: डॉ सत्येंद्र


लखनऊ । बख्शी का तालाब स्थित चंद्रभानु गुप्त कृषि स्नातकोत्तर महाविद्यालय पूर्व छात्रों के  लिए एलुमनाई मीट का आयोजन किया गया कार्यक्रम का शुभारंभ महाविद्यालय के प्रबंधक डॉ टी पी सिंह ने सरस्वती जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण कर किया। इस कार्यक्रम में पुराने छात्रों ने अपनी यादें ताजा की और अपने अनुभव साझा किए। महाविद्यालय के प्रबंधक डॉ डीपी सिंह ने कृषि की पुरानी परंपराओं को शोध के साथ  जोड़ने को कहा महाविद्यालय के प्राचार्य प्रो गजेंद्र सिंह ने बताया कि महाविद्यालय में कृषि परास्नातक छात्रों को नवीनतम तकनीकों से जोड़ने के लिए उनके कोर्स में शोध कार्य प्रारंभ कराया गया है जो इस महाविद्यालय की सबसे बड़ी उपलब्धि है। नए छात्रों द्वारा विभिन्न प्रकार के समसामयिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए । एसोसिएशन के संस्थापक सदस्य डॉ योगेंद्र कुमार सिंह ने बताया कि इस सोसाइटी की स्थापना 2015 में की गई थी उस समय विभिन्न अधिकारियों सहित 14 सदस्यों से यह सोसाइटी चलाई गई थी।    

एलुमनाई मीट कार्यक्रम का संचालन महाविद्यालय के कृषि सांख्यिकी विभाग के प्रवक्ता एवं वाइस प्रेसिडेंट दुर्गेश कुमार सिंह ने की। महाविद्यालय के प्रथम एलुमनाई डॉ सत्येंद्र कुमार सिंह ने बताया कि महाविद्यालय की शुरुआत 1995 में हुई थी उस समय कम संसाधनों में अच्छी शिक्षा दीक्षा होती थी आज यह विद्यालय पूरे भारत में अपने पठन-पाठन के कार्यों से जाना जाता है। महाविद्यालय के प्रथम छात्र डॉ सत्येंद्र कुमार सिंह ने बताया कि डॉ के के शुक्ला, दुर्गेश कुमार सिंह, सतीश चंद्र पांडे, डॉ योगेंद्र कुमार सिंह, डॉ हृदय नारायण तिवारी हमारे संस्थापक गुरु हैं, आज मैं जिस विद्यालय का छात्र था उसी विद्यालय में  शिक्षक के पद पर कार्य कर रहा हूं। महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ सत्येंद्र कुमार सिंह ने बताया कि सत्र 2022- 23 के लिए नई कार्यकारिणी बनाई गई है   अनुभव त्रिवेदी को अध्यक्ष, मनीष कुमार सिंह चौहान उपाध्यक्ष, भूपेंद्र कुमार सिंह ज्वाइंट सेक्रेट्री, धीरेंद्र प्रताप सिंह जनरल सेक्रेटरी तथा संजय सिंह,अजय रावत, डा आशुतोष श्रीवास्तव, डॉ सत्येंद्र कुमार सिंह, सुधांशु शुक्ला एवं हिमांशु दुबे सदस्य बनाया गया। 

एलुमनाई मीट में महाविद्यालय के धनेंद्र कुमार सिंह डॉ पीके मिश्रा श्रीमती प्रतिमा सिंह डॉ दीप्ति श्रीवास्तव, डॉ पी के सिंह डॉ सुधाकर सिंह, डॉ रवि शंकर वर्मा, डॉ दीपक पांडे, डॉ कमलाकांत, केडी पांडे, यूं ए सिद्दीकी डॉ जसकरन, डॉ हरीश यादव, डॉ ए के मिश्रा, डॉ केशव शंकर सिंह, यासमीन फातमा, सरसिज कुमार सिंह, डॉ एस सी चंदा, डॉ सुधाकर सिंह, डॉ एल पी यादव, डॉ सुधीर कुमार रघुवंशी, मनोज कुमार सिंह, शिवमंगल चौरसिया, शिव बहादुर सिंह, जितेंद्र बाजपेई, अतुल मिश्रा, दिलीप कुमार सिंह, गुलाब यादव, उमेश कुमार , राहुल कुमार सिंह, पवन कुमार रावत सहित 100 से अधिक एलुमनाई ने हिस्सा लिया। कार्यक्रम का समापन राष्ट्रगान पढ़ने के बाद हुआ।

पूरी स्टोरी पढ़िए