Prabhat Kiran Social Institute organized seminar on World Soil Day

  गोला गोकरन नाथ  आज विश्व मृदा दिवस के उपलक्ष्य में प्रभात किरण सामाजिक संस्थान ने गोष्ठी का आयोजन किया  संस्था के अध्यक्ष नवनीत कुमार प्रभात ने कहा कि थाईलैंड के नेतृत्व में, FAO ने विश्व मृदा दिवस की औपचारिक स्थापना का समर्थन किया। इस दिवस को मनाने का निर्णय ग्लोबल सॉयल पार्टनरशिप के तहत किया गया था। पहला विश्व मृदा दिवस 2014 में मनाया गया था।इस दिन थाईलैंड के दिवंगत राजा भूमिबोल अदुल्यादेज के जन्मदिन से मेल खाता है। वह इस पहल के मुख्य प्रस्तावक थे।राष्ट्रीय कृषि विज्ञान योजना, जो देश में बारानी कृषि प्रणालियों के विकास पर केंद्रित है, पूरे भारत में मिट्टी की गुणवत्ता पर ध्यान केंद्रित करती है। साथ ही मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना भी शुरू की गई है।जब संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 68वीं सामान्य सभा की बैठक के दौरान 5 दिसंबर को विश्व मृदा दिवस मनाने का फैसला लिया। इसके लिए एक संकल्प भी पारित किया गया। हालांकि इस दिन को मनाने की सिफारिश साल 2002 से ही शुरू हो गई थी। जब अंतरराष्ट्रीय मृदा विज्ञान संघ ने पहली बार 5 दिसंबर को विश्व मृदा दिवस मनाने की सिफारिश की। बाद में सर्वसम्मति से 2013 में इस दिन को आधिकारिक तौर पर मनाए जाने की घोषणा कर दी गई। एक साल बाद 5 दिसंबर 2014 को पहली बार पूरे विश्व में मृदा दिवस मनाया गया।

                खाद्य और कृषि संगठन के अंतर्गत मृदा दिवस मनाया जाता है। इस साल मृदा दिवस की थीम 2021 मृदा लवणीकरण को रोकें, मृदा उत्पादकता को बढ़ावा दें है।विश्व मृदा दिवस को मनाने का उद्देश्य लोगों में मृदा संरक्षण के प्रति जागरूकता बढ़ाना है। दरअसल, सभी स्थलीय जीवों के लिए मिट्टी का खास महत्व है। मिट्टी के क्षरण से कार्बनिक पदार्थों को नुकसान होता है। वहीं मिट्टी की उर्वरता में भी गिरावट आती है                                                          संस्था के उपाध्यक्ष श्रीकांत ने कहा कि विश्व मृदा दिवस पर अपने किसान भाईयों के साथ हम सभी भी अपनी धरा और इसकी उर्वरा शक्ति को बचाने व भावी पीढ़ियों को समृद्ध वशुंधरा प्रदान करने का संकल्प लिया इस मौके पर संस्था के प्रबंधक पंकज कुमार कोषाध्यक्ष अरुण कुमार प्रदेश अध्यक्ष दीपक कुमार प्रदेश उपाध्यक्ष प्रिंकेश वर्मा प्रदेश सचिव अर्चित वर्मा ,आकाश वर्मा,अजीत सिंह, अनुराग,सोनू, अमित आदि लोग मौजूद रहे

पूरी स्टोरी पढ़िए