Artist teacher Kalpana is rich in amazing talent

           गोला गोकरन नाथ  कहते हैं कि प्रतिभा परिस्थितियों की मोहताज नहीं होती। कला और साहित्य से प्रेम सभी को होता है कलाकार और साहित्यकार सभी का मन मोह लेते हैं परंतु यह विलक्षण प्रतिभा भगवान हर किसी को प्रदान नहीं करता।   एक कहावत कही गयी है- होनहार बिरवान के होत चिकने पात  का अर्थ - जो होनहार होते है उनकी प्रतिभा बचपन मे ही दिखाई  देने लगती हैं कहा जाता है की जो भी कोई मनुष्य अपने बचपन मे होता है उस ‌‌‌समय अगर किसी के चिकने पैर होते है तो कहा जाता है की यह बहुत ही होशियार होगा । और इसी कारण से उसके महान होने और महान कार्य करने के बारे मे अनुमान लगाया जाता है । 

            अब अगर वह व्यक्ति या बालक बडा हो जाता है तब वह महान कार्य करता है तो उसके लिए कहा जाता है की इसके होनहार होने की प्रतिभा तो बचपन ‌‌‌मे ही दिखाई देती थी । इस तरह से ‌‌‌होनहार के लक्षण बचपन मे दिखाई देने को होनहार बिरवान के होते चिकने पात कहा जाता है ।उपरोक्त कहावत शिक्षिका कल्पना  ने चरितार्थ कर के दिखाई है।

          क्षेत्रीय ग्राम मुस्तफाबाद की निवासी  कल्पना परास्नातक हैं और शिक्षिका है एक शिक्षिका ने शुक्रवार को चारोधाम के चारों मंदिर( केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्रीऔर यमुनोत्री)की पत्तों पर बहुत ही आकर्षक कटिंग की।उनकी इस अद्भुत कला की प्रशंसा दूर-दूर तक है। यूं तो उन्होंने किसी विद्यालय से कला की कोई डिग्री या डिप्लोमा हासिल नहीं किया परंतु कहते हैं कि प्रतिभा किसी डिग्री और डिप्लोमा की मोहताज नहीं होती यह कहावत शिक्षिका कल्पना  ने चरितार्थ कर के दिखाई है।

      कल्पना ने बताया कि उन्होंने कला स्वतः स्फूर्त सीखी है। उनका इस मामले में न तो कोई गुरु है और ना ही उन्होंने कला का कोई डिप्लोमा डिग्री हासिल की है। अभी तक बहुत से पर्वों पर दुर्गा ,भगवान शिव, मदर्स डे पर माता ,फादर्स डे एवं दशहरे पर्व पर श्री राम रावण का युध्द मंचन पर वह पत्तों की कटिंग काटकर आकृतियां बनाती रही है और अपनी कला का प्रदर्शन करती रही है।

 उन्होंने बताया कि पत्तियों पर कटिंग करके अभी तक उन्होंने सैकड़ों कलाकृतियां बनाई है।

उन्होंने यह भी बताया कि उन्हें कलाकृतियां बनाकर जो आनंद प्राप्त होता है उसका वह शब्दों में वर्णन नहीं कर सकतीं। उनकी कलाकृतियों की ख्याति दूर-दूर तक है जो भी उसे एक बार देखता है वह अभिभूत हो जाता है।

पूरी स्टोरी पढ़िए